निधन-श्रद्धांजलि

K K Aggarwal Death : नेकी और ईश्वर का दूसरा रूप अब ईश्वर के पास, जानिए कौन थे डॉ केके अग्रवाल

k-k-aggarwal
Spread It

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के पूर्व निदेशक और हार्ट केयर फाउंडेशन के प्रमुख एवं पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल (Dr. Dr. K K Aggarwal) का सोमवार देर रात कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया। वे पिछले कई दिन से एम्स के ट्रामा सेंटर में भर्ती थे।

करोना की दूसरी लहर जब से शुरू हुई है तब से संक्रमित लोगों में सांस लेने की यानी ऑक्सीजन की कमी हो रही है, इसके लिए देशभर को क्लोनिंग एक्सरसाइज (Cloning Exercise) करने के लिए जागरूक करने वाले शख्स भी डॉ अग्रवाल ही थे।

कोरोना से संक्रमित होने के बाद उनकी हालत गंभीर होती जा रही थी हुई थी, जिसके बाद उन्हें एम्स (AIIMS) के आईसीयू (ICU) में भर्ती कराया गया था।

IMA के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और हार्ट केयर फाउंडेशन के प्रमुख पद्मश्री डॉ. अग्रवाल ने 62 साल की उम्र में 17 मई की रात (सोमवार) तकरीबन 11:30 बजे ट्रामा सेंटर में अपनी आखिरी सांस ली।

कुछ समय पहले ही डॉ अग्रवाल और उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव हुए थे। जिसके बाद डॉ अग्रवाल को एम्स में भर्ती किया गया क्योंकि उनकी तबीयत लगातार खराब होती जा रही थी और उनकी पत्नी होम आईसुलेशन में थी।

एम्स में भर्ती होने के बाद जब डॉ अग्रवाल का तबीयत ज्यादा खराब होने लगी तो उनको वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया। डॉक्टरों की विशेष टीम उनका इलाज कर रही थी।

सम्मान

  • वह भारत में दिल के दौरे के लिए स्ट्रेप्टोकिनेस थेरेपी (streptokinase therapy) इस्तेमाल करने वाले अग्रदूतों में से एक थे और उन्होंने भारत में कलर डॉपलर इकोकार्डियोग्राफी की तकनीक की भी शुरूआत की।
  • डॉ. अग्रवाल को 2005 मेडिकल कैटेगरी के सर्वोच्च पुरस्कार, डॉ बीसी रॉय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। अग्रवाल को साल 2010 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।
  • इसके अलावा डॉक्टर अग्रवाल ने विश्व हिंदी सम्मान, राष्ट्रीय विज्ञान संचार पुरस्कार, फिक्की हेल्थ केयर पर्सनालिटी ऑफ द ईयर, डॉक्टर डीएस मुंगेकर राष्ट्रीय आईएमए समेत कई अवॉर्ड्स हासिल किए।
  • उन्होंने मेडिकल साइंसेज पर कई किताबें लिखीं हैं। आधुनिक एलोपैथी के साथ प्राचीन वैदिक चिकित्सा, इकोकार्डियोग्राफी पर 6 टेक्स्ट बुक और राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया में उनके लेख भी प्रकाशित हुए।

जीवन

  • मध्यप्रदेश में रहने वाले एक परिवार के यहां जन्मे डाॅ केके अग्रवाल ने 1979 में नागपुर विश्वविद्यालय से एमबीबीएस पढ़ाई पूरी की।
  • साल 1983 में एमडी करने के बाद डाॅ अग्रवाल ने 2017 तक नई दिल्ली के मूलचंद मेडिसिटी में बतौर सीनियर कंसल्टेंट काम किया है। इस दौरान उन्होंने मेडिकल साइंसेज पर कई सारी किताबें लिखीं हैं।
  • साल 2014 में डॉ अग्रवाल को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष रूप में चुना गया।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक डॉ. अग्रवाल कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए दी जा रही वैक्सीन (Vaccine) की दोनों डोज भी लगवा चुके थे। डॉ. अग्रवाल दिल्ली ही नहीं देश के दूसरे राज्यों में भी हार्ट से संबंधित सभी बीमारियों का अच्छे तरीके से सलाह देने और उनका इलाज कराने में पूरी मदद करते थे। पद्मश्री डॉ केके अग्रवाल ने अपने ट्विटर अकाउंट से 28 अप्रैल को जानकारी दी थी कि वह कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। उन्होंने अपना जीवन लोगों और स्वास्थ्य जागरूकता को लेकर समर्पित कर दिया था।

Tanveer Sangha : भारतीय मूल के टैक्सी ड्राइवर के बेटे ने बनाई ऑस्ट्रेलियाई टीम में जगह, रह चुके हैं अंडर 19 वर्ल्ड कप के सर्वश्रेष्ठ बॉलर