निधन-श्रद्धांजलि

मौत के सामने खोया हौसला : रेसलिंग जगत में शोक की लहर है

ritika-phogat
Spread It

भारत की शान कहलाने वाली महिला पहलवान गीता और बबीता फोगाट की बहन रितिका फोगाट ने खुदखुशी कर ली है। रितिका फोगाट गीता-बबीता की ममेरी बहन थी।

रितिका ने एक कुश्ती टूर्नामेंट में मैच हारने के बाद खुदखुशी कर ली। उनके इस कदम के बाद से उनके परिवार में दुःख का माहौल फैला हुआ है।

राष्ट्रमंडल खेलों-2010 में भारत को महिला वर्ग के कुश्ती में पहला स्वर्ण पदक दिलाने वाली गीता फोगाट भी काफी दुःखी हैं। गीता ने बताया कि हार-जीत खिलाड़ी के जीवन का हिस्सा होता है और किसी भी खिलाड़ी को ऐसे कदम नहीं उठाना चाहिए।

रितिका मात्र 17 साल की उम्र की थी। वे राजस्थान के भरतपुर के लोहागढ़ स्टेडियम में आयोजित स्टेट लेवल सब जूनियर टूनार्मेंट में हिस्सा ली थी।

इस टूर्नामेंट के फाइनल मुकाबले में रितिका मात्र एक अंक से हार गईं। जिसके चलते उन्होंने अपने फूफा महाबीर फोगाट के गांव बलाली में कथित तौर पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

रितिका ने 17 मार्च की देर रात करीब 11 बजे खुद को फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। वे अपने फूफा और कोच महाबीर फोगाट से अपनी कुश्ती की ट्रेनिंग ली थी। कोच महाबीर भी कुश्ती के फाइनल दिन मुकाबले के समय मौजूद रहे थे। रितु फोगाट ने रितिका की मौत पर शोक जताया है।

Add Comment

Click here to post a comment