निधन-श्रद्धांजलि

नहीं रहे अर्जुन अवार्ड विजेता वी. चंद्रशेखर, वो खिलाड़ी जिसका हौसला गंभीर बीमारी भी नहीं तोड़ पायी थी

v-chandrasekhar
Spread It

अर्जुन अवार्ड से सम्मानित 3 बार नेशनल टेबल टेनिस चैंपियन और पूर्व इंटरनेशनल खिलाड़ी वेनुगोपाल चंद्रशेखर (V. Chandrasekhar) का निधन 64 वर्ष की आयु में कोरोना संबंधित जटिलताओं के चलते हो गया। उन्होंने 12 मई को चेन्नई के एक अस्पताल में अपनी आखिरी सांसे ली।

चंद्रशेखर चेन्नई के एसडीएटी मेडिमिक्स टेबल टेनिस एकेडमी के डायरेक्टर और मुख्य कोच होने के साथ-साथ तमीजगा टेबल टेनिस एसोसिएशन के अध्यक्ष भी थे।

स्वास्थ संबंधी परेशानियों के कारण जन्हें पिछले सप्ताह ही सिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहाँ जांच के बाद उनके फेफड़े कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे।

चलना-फिरना बंद होने के साथ चली गयी थी आंखों की रोशनी भी, पर फिर भी तोड़ नहीं पाई एक खिलाड़ी के जज्बे को

चेन्नई में जन्में चंद्रशेखर चंद्रा नाम से मशहूर थे। वो टेबल टेनिस में 3 बार राष्ट्रीय चैंपियन बने थे। 1982 में वो राष्ट्रमंडल खेलों के सेमीफाइनल में भी पहुँचे थे। चंद्रशेखर के करियर पर विराम तब लग गया जब 1984 में घुटने के असफल ऑपरेशन के कारण उनका चलना फिरना बन्द हो गया साथ ही आवाज़ और दृष्टि भी चली गयी। ये मुश्किलें भी उनके अंदर के खिलाड़ी के जज्बे को तोड़ नहीं पाई। उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अस्पताल के खिलाफ कानूनी लड़ाई भी जीती।

उन्होंने प्रयास जारी रखी और तबियत में सुधार होने के बाद, वो टेबल टेनिस के कोच भी बने। उनके अंदर कोचिंग पाने वाले खिलाड़ियों में वर्तमान भारतीय खिलाड़ी जी. साथियान (G. Sathiyan) भी शामिल हैं।

Ola की एक नई पहल, डिलीवर करेंगे घर तक ऑक्सीजन सिलेंडर