कोरोना संकट से गुजर रहे दौर में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT), मद्रास ने बी.एससी के लिए प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम और डिप्लोमा पाठ्यक्रम शुरू किया है। इस प्रकार आईआईटी मद्रास दुनिया में ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम शुरू करने वाला पहला संस्थान बन चुका है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज, यानी 30 जून 2020 को एक वेबिनार के माध्यम से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। वैसे छात्र, जिन्होंने 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की है, वह ऑनलाइन पाठ्यक्रम में दाखिला ले सकता हैं। बता दें कि दाखिला लेने के लिए कोई आयु प्रतिबंध नहीं है।

ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम में तीन स्तर हैं। आईआईटी मद्रास से प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में बीएससी डिग्री प्राप्त करने के लिए एक शिक्षार्थी को सफलतापूर्वक सभी तीन स्तरों अर्थात् फाउंडेशन स्तर, डिप्लोमा और डिग्री स्तर को पूरा करना होगा। इसके अलावा, तीन निकास स्तर भी हैं। छात्र किसी भी स्तर पर पाठ्यक्रम से बाहर निकल सकते हैं। वे या तो डिग्री के तीनों स्तरों को पूरा कर सकते हैं, या फिर फाउंडेशन स्तर या डिप्लोमा स्तर को पूरा करने के बाद बाहर निकल सकते हैं। 

आईआईटी मद्रास के निदेशक प्रो. भास्कर राममूर्ति ने अपने संबोधन में बताया कि डेटा साइंस में महज औपचारिक शैक्षणिक कार्यक्रम उभर रहे हैं, डेटा वैज्ञानिकों की मांग और जॉब मार्केट में उपयुक्त योग्य आवेदकों की आपूर्ति के बीच एक बड़ा अंतर है। कार्यक्रमों के लिए पारंपरिक कक्षाएं सीमित हैं, जो आगामी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आवश्यक संख्या प्रदान करने में सक्षम नहीं होंगे। ऑनलाइन शिक्षण में बहुत बड़ी संख्या में प्रशिक्षण प्रदान करने की क्षमता है। इसलिए इसका उद्देश्य एक अच्छी तरह से प्रशिक्षित प्रोग्रामर बनाना है, जो अनुप्रयोग विकास, डेटा विज्ञान और मशीन का ज्ञान सीखने में कुशल हो।

प्रवेश करने के लिए आवेदन करने की योग्यता व पात्रता एवं विस्तृत जानकारी के लिए छात्र ऑफिशियल वेबसाइट, oniltegree.iitm.ac.in पर विजिट कर विवरणिका को डाउनलोड कर सकते हैं।

पांच परत पांच खूबियां, इस मास्क से हारेगा कोरोना