कोरोना महामारी ने जहाँ वैश्विक संकट उत्पन्न किया है, वही इसने एजुकेशन की पुरानी चली आ रही प्रक्रिया पर भी गहरा चोट किया है।आज पूरी दुनिया अपनी सारी प्रॉब्लम का सॉल्युशन इंटरनेट पर ढूंढती हैं। ऐसे में एजुकेशनल फील्ड को भी इसका लाभ उठाना चाहिए। आज जब टीचर और स्टूडेंट दोनों ही कहीं आ जा नहीं सकते तब “ऑनलाइन क्लासेज” की उपयोगिता उभर कर सामने आ रही है।और यदि टीचर और स्टूडेंट इसका सही उपयोग करे तो यह एक बेहतर मीडियम बन सकता है। एजुकेशनल फील्ड में बदलाव का भी यह सही समय हैं।

आज स्टूडेंट्स के साथ साथ टीचर और प्रोफेशनल भी ऑनलाइन लर्निंग का सहारा ले रहे हैं। नए स्किल्स सिखने का यह एक बढ़िया प्लेटफार्म है। जॉब मार्केट भी स्किल प्रोफेशनल की डिमांड करता है। स्कूल और कॉलेज भी ऑनलाइन लर्निंग को अपना रहे है।यह केवल कॉलेज स्टूडेंट्स ही नहीं बल्कि स्कूली बच्चों के लिए भी फादेमंद हैं। उनके लिए कई लर्निंग ऍप्स जैसे -Byjus , Vedantu , Extramarks, Snap Homework आदि मौजूद है। जहां वे आसान और मजेदार तरीको से स्टडी कर सकते हैं। साथ ही स्कूल भी ,स्टडी मटेरियल ,होमवर्क ,आसाइनमेंट्स ,टाइम -टेबल ,नोटिस जैसी महत्वपूर्ण सूचनाएं स्टूडेंट्स और गार्जियंस के साथ ऑनलाइन साझा कर रहे है। हालाँकि ,अभी भी कई पेरेंट्स ,टीचर और स्टूडेंट्स इसे बेहतर नहीं मानते। लेकिन ,”ऑनलाइन एवं ऑफलाइन” दोनों ही तरीकों के अपने फायदे है ,और हम इनमे से किसी एक को “सबसे बेहतर” नही सकते। जब हम दोनों ही तरीको को सामान रूप से लेकर आगे बढ़ेंगे तभी सफलता मिलेगी।

ऑनलाइन लर्निंग ने पूरी दुनिया को एक क्लासरूम में बदल दिया है। जहां हम जब चाहे कुछ नया और अच्छा सीख सकते हैं। तो ,आइये हम ऑनलाइन लर्निंग के कुछ अहमियत और फायदों को समझते हैं।

1. कोर्स और प्रोग्राम की विविधता

ऑनलाइन मार्केट में कोर्स और प्रोग्राम्स का भंडार मौजूद है। जरूरत है तो बस आपकी रुचि और आवश्यकता की। अगर आप साइंस के स्टूडेंट है ,पर आपकी रूचि ‘डिजाइनिंग’ में है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की आप साइंस के स्टूडेंट है। बस,—थोड़ी सी ऑनलाइन रिसर्च और आपके पास डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेज की लिस्ट होगी। जिससे चुनकर आप अपनी पसंद का कोई भी कोर्स कर सकते है। और आप अपने सपनो को पूरा कर सकते हैं।
इसीप्रकार हजारों ऑनलाइन कोर्सेज का भंडार ऑनलाइन मौजूद है। आप अपनी आवश्यकता और पसंद के अनुसार उसका चुनाव कर सकते है। साथ ही साथ आप ऑनलाइन डिग्री भी प्राप्त कर सकते है।

2. कम खर्च

ऑनलाइन कोर्स का एक बड़ा फायदा यह है की आप यहां कम खर्च में भी डिग्री और नॉलेज प्राप्त कर सकते हो। कॉलेज में जहां ऐकडमिक फीस के साथ लैब फीस ,हॉस्टल फीस ,पार्किंग, इलेक्ट्रिसिटी जैसे ख़र्च होते हैं। वही आप ऑनलाइन में इन सब खर्चो से बच जाते हो और केवल अपनी डिग्री की फीस भरते हो। चूँकि मध्यम वर्गीय परिवार के लिए शिक्षा प्राप्त करना एक महँगा सपना पूरा करने जैसा हो गया है। ऐसे में ऑनलाइन कोर्सेज उनके लिए वरदान है। और सबसे खास बात ; कई ऑनलाइन कोर्स पूरी तरह से मुफ्त होते हैं। हालाँकि फ्री कोर्सेज में आपको डिग्री नहीं मिलती पर आप अपने स्किल बढाने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

3. सुविधाजनक

ऑनलाइन क्लासेज स्टूडेंट को यह सुविधा देता है की वह अपने हिसाब से पढ़ने का समय तय कर सके। चुकी यहां सभी लेक्चर और स्टडी मटेरियल ऑनलाइन उपलब्ध रहती है। जिससे आसानी से आप उसका उपयोग कर सकते है। आपको कहीं आने जाने का झंझट नहीं रहता है। इसके साथ ही बच्चो को महंगी किताबें खरीदने की भी जरूरत नहीं होती है। आप ऑनलाइन मौजूद स्टडी मटेरियल का उपयोज करते है। इन सुविधाओं के कारन स्टूडेंट अपने काम और फॅमिले को भी समय दे पता हैं। लेकिन इन सुविधाओं का हमे लाभ उठाना चाहिए। जब हम पढ़ने बैठे ,उस वक्त हमारा पूरा ध्यान पढ़ाई पर ही होना चाहिए।

4. करियर बनाता शानदार

करियर के किसी भी मोड़ पर आप ऑनलाइन कोर्स कर सकते हो। यह आपकी क्षमता को दर्शता है की आप हमेशा अपना ज्ञान बढ़ाना चाहते हैं और हमेशा नई स्किलस सीखना चाहते है। कंपनी अथवा एचआर टीम हमेशा स्किल्ड लोगों को प्राथमिकता देती है।

5. आने जाने से बचना

लॉकडाउन के कारन जब स्कूल और कॉलेज बंद है ताकि कोरोना न फैले। आज बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ उनका सेशन भी पीछे हो चूका है। ऐसे में ऑनलाइन क्लास के द्वारा उनकी पढ़ाई को दुबारा शुरू किया गया है। ऑनलाइन क्लास की यही खासियत है। स्टूडेन्ट अपने घर में रहते हुए अपनी पढ़ाई जारी रख सकते है।

ऑनलाइन क्लास का एक फायदा यह भी है की आप भले बिहार में रहते हों लेकिन आप चाहें तो दिल्ली ,मुंबई अथवा विदेश के किसी अच्छे कॉलेज से घर बैठे पढ़ाई कर सकते हो। जिससे आप रहने -खाने ,आने -जाने जैसे खर्चो से बच सकते हो।

डार्विन ने कहा है—–“सबसे स्वस्थ और सबसे तेज व्यक्ति नहीं ,बल्कि सबसे लचीला व्यक्ति ही अपना अस्तित्व बचाए रख सकता है”। आज डार्विन की कही बात फिर से सार्थक होती नजर आ रही है। एजुकेशनल फील्ड में आ रहे इस बदलाव को जो जीतना जल्दी अपनाएगा भविष्य में सफलता उसके उतने ही नजदीक होगी। हमे बदलाव को अपनाते हुए आगे बढ़ना चाहिए। और अपनी रूचि के अनुसार हमेशा नया सीखने को तैयार रहना चाहिए।