माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (एसटीईटी) 2019 की पुनर्परीक्षा ऑनलाइन होगी। इसके लिए छात्रों को फिर से आवेदन नहीं करना पड़ेगा।  बिहार बोर्ड के प्रस्ताव को शिक्षा विभाग ने मंजूरी दे दी है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने बिहार बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक (विविध) की ओर से भेजे गए प्रस्ताव पर सहमति दी है। अब यह परीक्षा बिहार स्टेट इलेक्ट्रॉनिक्स डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड(बेल्ट्रॉन) के माध्यम से ली जाएगी। एसटीईटी 2019 इसी साल 28 जनवरी को आयोजित की गई थी। यह परीक्षा ऑफलाइन ली गई थी, लेकिन परीक्षा में बड़े पैमाने पर हुई धांधली के बाद बोर्ड ने जांच समिति बनाई थी। माध्यमिक (वर्ग 9 एवं 10) एवं उच्च माध्यमिक (वर्ग 11 एवं 12) विद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए 8 साल बाद एसटीईटी का आयोजन हुआ था।जांच कमेटी ने माना कि परीक्षा के दिन केन्द्रों पर तोड़फोड़ हुई थीं। ऐसे में प्रश्न पत्र को मोबाइल से बाहर भेजा गया होगा। इसके अलावा प्रश्नपत्र सेटर द्वारा चारों विषयों को अलग ग्रुप में नहीं बांटकर सामाजिक विज्ञान के सभी प्रश्नों को एक ग्रुप में ही डाल दिया था, जो गलत है। इन दो वजहों से परीक्षा रद्द कर दी गई थी।

बिहार बोर्ड ने इस महीने की शुरुआत में पटना हाईकोर्ट को बताया है कि माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा तीन महीने बाद लेने की तैयारी की जा रही है। इस हिसाब से अगस्त-सितंबर में परीक्षा हो सकती है। परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों से दोबारा परीक्षा के लिए कोई परीक्षा शुल्क नहीं लिया जाएगा। इसके अलावा उन्हें अलग से आवेदन करने की आवश्यकता भी नहीं है।

CTET के पुराने प्रश्न पत्र हुए अपलोड