कोविड-19 के कारण दुनियाभर के लाखों लोगो ने अपनी आजीविका के बुनियाद को खो दिया है। ये कहना शायद गलत नहीं होगा की आज हमारा समाज आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है। कई सारे शिक्षित व्यक्ति भी आज मजदूरी कर रहे है तो कुछ के पास कोई काम नहीं है। हालत ऐसी है की कई घर को भूखे सोने की नौबत भी आ गयी है। हालाँकि इस स्थिति से उबरने में सरकार से लेकर सरकारी और गैर सरकारी सभी तरह के संगठन पूरी निष्ठा के साथ कार्यरत है।

भूखो की भूख मिटाने में रॉबिनहुड आर्मी हमेशा से तत्पर रहा है। इस कोरोना काल में भी रॉबिनहुड आर्मी ने अपनों का साथ नहीं छोड़ा है। अपने इस कार्य को उन्होंने मिशन का रूप दे दिया है। मिशन 30 मिलियन के तहत रॉबिनहुड आर्मी के आर्मी (वॉलंटियर) ने 30 मिलियन लोगो के भूख के साथ उनके जरुरत को पूरा करने का प्राण लिया है। रॉबन हुड आर्मी इस सेवा के लिए 10 देशो में व्यापारी समूह, पत्रकार समूह और स्वयंसेवक को एक साथ लेकर ग्रामीण और शहरी क्षेत्रो में से सबसे अधिक प्रभावित लोगो में से 3 करोड़ लोगो को भोजन कराएगा। मिशन को 3 भागो में क्रियान्वित की जाएगी।

भारत,पाकिस्तान, बहरीन, बोत्सवाना, कनाडा, केन्या, मलेशिया, श्रीलंका,नाइजीरिया और युगांडा में रॉबिन्स अपने आस पास के 5 गावों को गोद लेंगे। इनका मुख्य लक्ष्य इस क्षेत्र में अनाथालय, वृद्धाश्रम,, बेघर लोग, बीमार मरीज के साथ दिहाड़ी मजदूर को प्राथमिकता देना है। इनका लक्ष्य 15 अगस्त तक 30 मिलियन लोगो को राशन उपलब्ध कराने की कोशिश रहेगी।

आपको बता दें रॉबिनहुड आर्मी से जुड़े युवा आपके और हमारे बीच के ही हैं, इन्हें रॉबिन्स कहा जाता है। ये रॉबिन्स शहर के बड़े होटल और रेस्टोरेंट से बचा हुआ खाना लेते हैं और ये खाना जरूरतमंदों तक पहुंचाते हैं। रॉबिनहुड आर्मी एक स्वमसेवी संगठन है। पिछले 5 वर्षो में रोबिन हुड ने 33.1 मिलियन से अधिक लोगो को वैश्विक स्तर पर 181 नगरों में भोजन वितरित किया है। इस संगठन में पैसो का कोई स्थान नहीं है, ये तो बस अपने रॉबिन्स और उनके सहयोगियों की मदद से लोगो की लगातार मदद करते आ रहे है।

रॉबिनहुड के मिशन 30M से जुड़ने के लिए कोई भी robinhoodarmy.com/mission30M पर खुद को रजिस्टर्ड कर आपने आस पास के जरूरतमंद लोगो की सहायता कर सकता है।