पर्यावरण में सुधार के लिए बिहार पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग ने अपना  कमर कसना शुरू कर दिया है। बिहार के वन क्षेत्रों की सुरक्षा के लिए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग जल्द वनरक्षी और वनपालों की भर्ती करेगा। यह भर्ती 720 पदों पर की जाएगी। विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार कर लिया है। राज्य सरकार की सहमति से इसे जल्द केंद्रीय सिपाही चयन परिषद को भेजा जाएगा। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के पास फॉरेस्ट गार्ड व वनपालों की काफी कमी लंबे समय से है, जबकि वाल्मीकि टाइगर रिजर्व यहां है। कैमूर को अगला व्याघ्र अभयारण्य बनाने की तैयारी में विभाग जुटा है। असल में वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या लगातार बढ़ रही है। साथ ही राज्य सरकार ने ईको टूरिज्म का काम भी पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग को सौंपा है। ऐसे में फॉरेस्ट गार्ड की जरूरत और बढ़ गई है। काफी समय बाद विभाग को कुछ माह पूर्व 845 फॉरेस्ट गार्ड मिले हैं। 720 फॉरेस्ट गार्ड व वनपालों की भर्ती का और प्रस्ताव तैयार किया गया है । इनमें 484 गार्ड व 236 वनपाल हैं। इनकी भर्ती के बाद विभाग के पास 1565 नए गार्ड व वनपाल हो जाएंगे।