महाभारत और रामायण का क्रेज कभी भी ख़त्म नहीं हुआ। 80 और 90 के दशक में जब ये सीरियल आय था तब लोग अपना सारा काम छोड़कर इस सीरियल को देखा करते थे। उस वक़्त ये सीरियल ने कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। ये लोगो के श्रद्धा और कलाकारों के जीवंत अभिनय का ही असर था कि जब भी रामायण या महाभारत शुरू होता तो दर्शक अपने टीवी के पास जल चढ़ाते और पूजा करते।  दर्शकों के दिल में कलाकारों के चेहरे में ही भगवान दिखने लगे थे।

लॉकडाउन  में 80 और 90 के दशक के कार्यक्रम दूरदर्शन पर दोबारा प्रसारित हो रहे हैं। इन सीरियल्स का क्रेज अभी भी काम नहीं हुआ। ‘महाभारत’ से लेकर ‘रामायण  जैसे पौराणिक कार्यक्रम इन दिनों काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं।  बी आर चोपड़ा की ‘महाभारत ‘ ने दूरदर्शन पर लॉकडाउन में भी काफी धमाल मचाया और खूब टीआरपी बटोरी।  वहीं, अब एक बार फिर अब इस पौराणिक गाथा को सुनाया जाएगा।  इस बार टीवी पर नहीं बल्कि एक ऐप पर यह सबसे बड़ी पौराणिक गाथा ‘महाभारत’ आप सुन सकते हैं।

इस बारे में बातचीत करते हुए देवदत्त पटनायक  ने कहा, “महाभारत  एक परिवार की कथा है और इसमें यह बताया गया है, कि जब हम किसी की चिंता नहीं करते और एक-दूसरे से बातों को शेयर नहीं करते, तो क्या गलत हो सकता है।  Audible Suno व्यक्तिगत रूप से नई कहानी को अच्छी सामग्री और आसान तकनीक के साथ जोड़कर भारत की मौखिक परंपरा को स्पष्ट रूप से मजबूत कर रहा है।

महाकवि कालिदास ने बिहार के इस मंदिर में की थी सरस्वती उपासना, पढ़ें पूरी खबर

‘ऑडिबल सुनो ‘ ऐप पर देवदत्त पटनायक के आवाज़ में  ‘सुनो महाभारत ‘ आएगी।  ‘सुनो महाभारत ‘ में केवल 6 घंटों में पूरी ‘महाभारत कथा’ का वर्णन किया जाएगा।  इस दौरान देवदत्त पटनायक केवल 18 एपिसोड में पूरी ‘महाभारत’ तो सुनाएंगे ही बल्कि इसके साथ ही यह भी बताएंगे की ‘महाभारत’ के युद्ध के बाद क्या-क्या हुआ था।  देवदत्त पटनायक 3 हजार साल से अधिक पुराने इस पौराणिक ग्रंथ में केवल कौरवों और पांडवों के बीच हुए युद्ध का वर्णन ही नहीं करेंगे, बल्कि साथ ही यह भी बताएंगे की आखिर में श्रीकृष्ण के साथ क्या हुआ था।

देवदत्त पटनायक एक भारतीय लेखक हैं। इसके साथ ही वे पौराणिक कथाकार, माइथोलॉजिस्ट, नेतृत्व सलाहकार, लेखक और संचारक भी हैं। वह भारत के सबसे बड़े खुदरा विक्रेताओं में से एक हैं।