फुल वॉल्यूम 360° विदेश

भारत का बेटा बना अमेरिका डिफेन्स सेक्रेटरी का चीफ ऑफ स्टाफ

Kash Patel

भारतीय-अमेरिकी ‘काश पटेल’ को कार्यवाहक US Defence Secretary ‘क्रिस मिलर’ के चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में नामित किया गया है। पेंटागन ने घोषणा की कि “काश पटेल, वर्तमान में National Security Council के कर्मचारियों पर, एक्टिंग सेक्रेटरी, मिलर द्वारा अपने चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में नामित किया गया है।” अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने Defence Secretary ‘मार्क एस्पर’ को पद छोड़ने के एक दिन बाद नई नियुक्ति दी और National Counter Terrorism Center के निदेशक, क्रिस मिलर को कार्यवाहक सचिव के रूप में नामित किया।

कश्यप प्रमोद पटेल जिसे लोकप्रिय रूप से काश पटेल के रूप में जाने जाते हैं, उन्होंने पहले House Permanent Select Committee में Counterterrorism के लिए वरिष्ठ वकील के रूप में कार्य किया था। 39 वर्षीय पटेल को जून 2019 में व्हाइट हाउस में National Security Council (NSC) के Counterterrorism Directorate के वरिष्ठ निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। पटेल ने जेन स्टीवर्ट की जगह ली है, जिन्होंने पहले हीं
इस्तीफा दे दिया था।

न्यूयॉर्क में जन्मे काश पटेल की जड़ें गुजरात में हैं। हालांकि, उनके माता-पिता पूर्वी अफ्रीका के हैं। उनकी मां तंजानिया की हैं और पिता युगांडा के हैं। वे 1970 में कनाडा से अमेरिका आए थे। उनका परिवार न्यूयॉर्क के क्वींस में चला गया जिसे अक्सर 70 के दशक के अंत में लिटिल इंडिया कहा जाता था। न्यूयॉर्क में अपनी स्कूली शिक्षा और रिचमंड, वर्जीनिया में कॉलेज और फिर न्यूयॉर्क में लॉ स्कूल के बाद, पटेल फ्लोरिडा चले गए जहां वह चार साल तक राज्य के पब्लिक डिफेंडर और फिर चार साल के लिए फ़ेडरल पब्लिक डिफेंडर रहें।

फ्लोरिडा से, वह न्याय विभाग में टेररिज्म प्रोसिक्यूटर के रूप में वाशिंगटन डीसी चले गए। यहां वह लगभग साढ़े तीन साल तक अंतरराष्ट्रीय टेररिज्म प्रोसिक्यूटर रहे। पेंटागन में, वह विशेष बलों के लोगों के साथ न्याय विभाग के वकील के रूप में बैठे और दुनिया भर में inter-agency collaborative targeting operations में काम किया। इस पोजीशन में एक साल के बाद, इंटेलिजेंस कमेटी पर हाउस परमानेंट सिलेक्ट के चेयरमैन ‘डेविन न्यून्स’ ने उन्हें आतंकवादवाद पर वरिष्ठ वकील के रूप में लेकर आए।