देश फुल वॉल्यूम 360°

अब वाहन की हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट गुम होने पर भी करानी होगी FIR

गाड़ी के चोरी होने पर वाहन मालिक को एफआईआर दर्ज कराना पड़ता था, लेकिन अब गाड़ी में लगी हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (एचएसआरपी) को बदलवाने के लिए भी एफआईआर की जरूरत पड़ेगी। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 21 अक्तूबर को राज्यों के प्रमुख सचिवों, परिवहन आयुक्तों को एचएसआरपी को बदलने संबंधी नए नियमों की सूची भेजी है। इसमें कहा गया है कि वाहनों में लगी हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट अगर खो जाती है, चोरी हो जाती है या टूट जाती है, तो वाहन मालिक को एफआईआर दर्ज करानी होगी। इसके बाद एफआईआर की कॉपी को वाहन- 4 पोर्टल पर अपलोड करना होगा, जिसके बाद नई एचएसआरपी लग पाएगी। 

देश में 1 अप्रैल 2019 से सभी नए वाहनों में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट लगाना अनिवार्य है, जिसके चलते नए वाहनों में वाहन निर्माता और डीलर खुद इसे लगा कर दे रहे हैं। इसके अलावा वाहन की हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के टूटने-खराब होने पर नई नंबर प्लेट जारी की जाएगी। लेकिन इसकी जानकारी वाहन-4 सॉफ्टवेयर में अपलोड़ करनी होगी। इसमें प्लेट बदलने का विवरण लिखना होगा। वाहन के आगे व पीछे दोनों नंबर प्लेटों में पृथक 10 अंक का यूनिक नंबर होता है। इसलिए किसी एक प्लेट को अगले से बदला जा सकता है। इसमें दोनों नंबर प्लेट बदलने की जरुरत नहीं पड़ेगी। डीलर, वेंडर, आरटीओ बदली गई प्लेट के टूकड़े-टूकड़े करने के बाद नष्ट कर देंगे। ऐसे नंबर प्लेट का पूरा रिकॉर्ड रखा जाएगा, जिससे अधिकारी कभी भी इसकी जांच कर सकेंगे।

वाहन के दोनों नंबर प्लेट टूटने पर प्लेट के साथ स्टीकर प्लेट भी बदले जाएंगे। इसके लिए वाहन मालिकों को तीनों प्लेट्स का शुल्क देना होगा। अगर केवल स्टीकर प्लेट ही खराब होती है, तो सिर्फ उसे ही बदला जाएगा। इसके लिए वाहन मालिकों से केवल स्टीकर प्लेट का ही शुल्क लिया जाएगा। अलग-अलग वाहनों के लिए एचएसआरपी की कीमतें अलग-अलग हैं। जैसे कार के लिए इसकी कीमत 600 से 1000 रुपये के बीच है। वहीं, दो पहिया वाहनों के लिए इसकी कीमत 300 से 400 रुपये तक है।