देश फुल वॉल्यूम 360°

वो वक़्त जब आयरन लेडी के हुंकार से बजा दुनिया में भारत का डंका

indira-gandhi

भारत की लौह महिला कही जाने वाली ‘इंदिरा गाँधी’ का आज 103 वां जन्मदिन है। वह भारत की पहली महिला प्रधान मंत्री थीं, जिन्होंने लगातार तीन कार्यकाल (1966-77) और 1980 से चौथे कार्यकाल तक सेवा की, जब तक कि उनकी 1984 में हत्या नहीं हो गई। पीएम का पद श्रीमती इंदिरा गांधी के हाथों में उस समय आया जब देश एक नेतृत्व संकट से जूझ रहा था। इंदिरा ने न केवल अपने चमत्कारी नेतृत्व द्वारा देश को कुशल नेतृत्व प्रदान किया बल्कि भारत को विश्व मंच पर स्थापित किया। भारत में इंदिरा गांधी की जयंती के रूप में ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ मनाया जाता है। पूरे भारत में व्यक्तियों के बीच स्नेह और एकजुटता को बढ़ाने के लिए इसकी सराहना की जाती है।

इन्दिरा का जन्म 19 नवम्बर 1917 को नेहरू परिवार में हुआ था। इनके पिता जवाहरलाल नेहरू और इनकी माता कमला नेहरू थीं। वे उनकी एकमात्र संतान थीं। इनके पिता आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री और एक स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने अपनी शिक्षा रविंद्र नाथ टैगोर की शांति निकेतन में निर्मित विश्व भारती विश्वविद्यालय से पाया। बाद में उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को 1938 को ज्वाइन किया। 1942 में उन्होंने पार्टी के एक साथी फिरोज गांधी से शादी की। उनके दो बच्चे, संजय और राजीव थे। उनकी हत्या उनके ही बॉडीगॉर्ड सतवंत सिंह और बेअंत सिंह द्वारा ऑपरेशन ब्लू स्टार के तहत हुआ।

इन्दिरा में नेतृत्व के गुण बचपन से ही मौजूद थे। इंदिरा अकेली वह महिला हैं जिन्होंने न केवल अपने देश में बल्कि विदेश में भी अपनी मजबूती और इरादों के डंके बजवाए हैं। उनके बुलंद हौसलों के सामने पूरी दुनिया ने घुटने टेके। उन्होंने कई ऐसे काम किए, जिनसे दुनिया में भारत का सम्मान बढ़ा। हरित क्रांति, आपातकाल, परमाणु परीक्षण के दौरान बुद्धा स्माइलिंग की बात, पाकिस्तान के अत्याचार से जूझ रहे बांग्लादेश को आजाद कराने की बात, अंतरिक्ष में अमेरिका को अपनी मजबूती दिखाने की बात, आदि ने भारत को अलग मुकाम पे पहुंचाया है। इन्दिरा ने विश्व मानचित्र पर देश के महत्त्व को स्थापित किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदिरा गाँधी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा “पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी को उनकी जयंती पर नमन।” राहुल गांधी सहित कांग्रेस नेताओं ने भी पूर्व प्रधानमंत्री को भरपूर श्रद्धांजलि दी। राहुल गांधी ने इंदिरा गाँधी के शांति स्थल ‘शक्ति मेमोरियल’ पर पुष्पांजलि अर्पित की। “उन्होंने कहा एक कार्यकुशल प्रधानमंत्री और शक्ति स्वरूप श्रीमती इंदिरा गांधी जी की जयंती पर श्रद्धांजलि। पूरा देश उनके प्रभावशाली नेतृत्व की आज भी मिसाल देता है लेकिन मैं उन्हें हमेशा अपनी प्यारी दादी के रूप में याद करता हूँ। उनकी सिखायी हुई बातें मुझे निरंतर प्रेरित करती हैं।”