देश फुल वॉल्यूम 360°

19 महीनों में ही दुनिया को दिखाया भारत की ताकत

देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जन्मतिथि स्कूली दस्तावेजों में आठ जुलाई लिखी गयी है। हालांकि पूरा देश उनकी जयंती दो अक्तूबर को मनाता है। इसको लेकर पहले भी कई बार सवाल उठ चुके हैं। हालांकि शास्त्री जी के परिजन उनकी जन्मतिथि दो अक्तूबर ही बताते हैं। लाल बहादुर शास्‍त्री, वो नाम है जिसने पाकिस्‍तान को उसके घर में घुसकर मारा था। उनके ही कार्यकाल में भारतीय फौज ने पाकिस्‍तान को जंग का करारा जवाब दिया और लाहौर तक पर अपना झंडा लहराया था। लाल बहादुर शास्त्री की सादगी अपने आप में मिसाल है और इसी सादगी और देशभक्ति के बल पर वह देश के प्रधानमंत्री बने। ईमानदारी और स्वाभिमानी छवि के चलते आज भी उन्हें बहुत सम्मान के साथ याद किया जाता है।

1965 की लड़ाई के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति लिंडन जॉन्सन ने शास्त्री को धमकी दी थी कि अगर आपने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ लड़ाई बंद नहीं की तो हम आपको पीएल 480 के तहत जो लाल गेहूँ भेजते हैं, उसे बंद कर देंगे। उस समय भारत गेहूँ के उत्पादन में आत्मनिर्भर नहीं था। शास्त्री को ये बात बहुत चुभी क्योंकि वो स्वाभिमानी व्यक्ति थे। उन्होंने देशवासियों से कहा कि हम हफ़्ते में एक वक्त भोजन नहीं करेंगे. उसकी वजह से अमरीका से आने वाले गेहूँ की आपूर्ति हो जाएगी। उनके कहने पर ही देश के लोगों ने एक दिन का उपवास रखना शुरू किया था। उनके कहने पर लोगों ने पाकिस्‍तान से हुए युद्ध के लिए दिल खोलकर दान दिया था। सार्वजनिक जीवन में उनके जैसी ईमानदारी बहुत ही कम देखने को मिलती है।

शास्त्री उनकी उपाधि थी, जो उन्हें काशी विद्यापीठ से पढ़ाई के बाद मिली थी। उन्होंने महिलाओं को रोज़गार देने की दिशा में सबसे पहले काम किया। उन्‍होंने जय जवान जय किसान का नारा दिया। लाल बहादुर शास्त्री 19 महीने तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। इन 19 महीनों में उन्होंने दुनिया को भारत की शक्ति का अहसास कराया। एक बार लाल बहादुर शास्त्री जेल में थे तो उन्होंने अपनी मां को ख़त लिखा। खत में उन्होंने पूछा कि क्या उन्हें लोक सेवक संस्था से पैसे समय पर मिल रहे हैं। मां ने जवाब दिया कि उन्हें पचास रुपये मिलते हैं जिसमें से लगभग 40 रुपये खर्च हो जाते हैं और बाकी के बचा लेती हैं। शास्त्री जी ने संस्था को पत्र लिखा और कहा कि अगली बार से उनके परिवार को 40 रुपये ही भेजे जाएं और बचे हुए पैसों से किसी जरूरतमंद की मदद कर दी जाए। शास्त्री जी के इरादे और काम करने का तरीका फौलादी था। एक बार जब उनके बेटे को गलत तरह से प्रमोशन दे दिया गया तो शास्त्री जी ने खुद उस प्रमोशन को रद करा दिया।

भारत के इस सपूत का जन्‍म 2 अक्टूबर सन् 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ था। उनको घर में सबसे छोटे होने के नाते प्यार से ‘नन्हें’ बुलाया जाता था। बचपन में ही पिता का साया सिर से उठजाने की वजह से उन्‍होंने मिर्जापुर में अपने नाना के यहां पर प्राथमिक शिक्षा हासिल की। पैसे के अभाव में वो नदी को तैर कर पार करते और स्‍कूल जाते थे। काशी विद्यापीठ से संस्कृत की पढ़ाई करने के बाद उन्हें ‘शास्त्री’ की उपाधि दी गई। बेहद कम उम्र में ही वो गांधी जी के साथ असहयोग आंदोलन में शामिल हो गए। आजादी के बाद वो दिल्ली आ गए और केंद्रीय मंत्रिमंडल के कई विभागों में काम किया। उन्होंने रेल मंत्री, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, गृह मंत्री समेत कई मंत्री पद संभाले। उन्होंने 11 जनवरी, 1966 को ताशकंद में अंतिम सांस ली थी।