विज्ञान-अंतरिक्ष

मामा के घर से लाई जाएगी धूल

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी, National Aeronautics and Space Administration (NASA) ने अगले कुछ वर्षों में $1 से $15,000 के लिए चंद्रमा की धूल को एकत्र करने के लिए चार कंपनियों को अनुबंध प्रदान किया है। ये कंपनियां अगले कुछ सालों में नासा के लिए चंद्रमा से नमूने जमा कर नासा को उपलब्ध कराएंगी। चंद्रमा की धूल को ‘रेगोलिथ’ कहा जाता है। NASA ने इन चार कंपनियों से चंद्रमा की मिट्टी रेगोलिथ खरीदने का करार किया है।

ये चार निजी कंपनियां 2022 और 2023 में चंद्रमा पर पहले से तय मानवरहित मिशनों के दौरान चंद्र नमूना संग्रह करने की योजना बना रही हैं। इस कॉन्ट्रैक्ट के तहत Colorado की Lunar Outpost of Golden कंपनी एक डॉलर में, जापान के टोक्यो की ispace और यूरोप की लक्जमबर्ग की ispace 5-5 हजार डॉलर में और कैलिफोर्निया की Masten Space Systems of Mojave 15 हजार डॉलर में, चंद्रमा की धूल नासा को देगी।

नासा के अंतरराष्ट्रीय और अंतर-संबंध रिलेशन के लिए सहयोगी एडमिनिस्ट्रेटर, ‘माइक गोल्ड’ ने कहा “हमें लगता है कि मिसाल कायम करना बहुत जरूरी है, जिसे निजी क्षेत्र की संस्थाएं एक्सट्रैक्ट कर सकती हैं, इन संसाधनों को ले सकती हैं, लेकिन नासा खरीद सकता है और उनका उपयोग कर, ना केवल नासा की गतिविधियों को बढ़ावा दे सकता है, बल्कि चंद्रमा पर सार्वजनिक और निजी विकास और अन्वेषण का एक नया गतिशील युग बना सकता है।”

चंद्रमा की धूल को नासा को सौंप दिया जाएगा और यह ‘आर्टेमिस’ कार्यक्रम के तहत एजेंसी के उपयोग के लिए नासा की एकमात्र संपत्ति बन जाएगी। आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत, नासा ने 2024 तक एक पुरुष और एक महिला को चंद्रमा पर उतारने की योजना बनाई और सस्टेनेबल एक्सप्लोरेशन और मंगल ग्रह के लिए एक अंतिम मिशन के लिए जमीन तैयार की। नासा, अनुबंध से सम्मानित होने के बाद प्रस्तावित पुरस्कार का केवल 10% देगा, साथ ही एक और 10% संबंधित मिशनों के लॉन्च के बाद देगा। शेष 80% का भुगतान केवल तब होगा जब मिशन पूरी तरह से पूरा हो जाए और चंद्रमा की धूल नासा को सौंप दी जाएगी।