स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन चुनौतियों को हल करने के लिए डिजिटल तकनीक आधारित नवोन्मेष की पहचान करने की एक पहल है। इस बार हैकाथॉन कोविड के उपरांत की दुनिया और आत्म निर्भर भारत पर फोकस करेगा। देश में इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार की ओर से चलाए जा रहे ‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’ (Smart India Hackathon 2020) का ग्रैंड फिनाले शनिवार 1 अगस्त से शुरू हो रहा है। 3 अगस्त तक चलने वाला ये हैकाथॉन इस तरह का दुनिया में सबसे बड़ा इवेंट है। इस इवेंट की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के साथ होगी।

इंडिया हैकाथॉन एक राष्ट्रव्यापी पहल है जो स्टूडेंट्स को रोजाना में आ रही समस्याओं का समाधान निकालने के लिए मंच प्रदान करती है। यहां देशभर के छात्र समस्याओं को इनोवेशन और प्रॉब्लम सॉल्विंग माइंडसेट से हल करते हैं। पीएम मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट कर जानकारी दी कि यंग इंडिया में बहुत प्रतिभा है, स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन में नवाचार और उत्कृष्टता को दर्शाता है। एक अगस्त को 4.30 को वे स्मार्ट इंडिया हैक्थॉन के फाइनलिस्ट को संबोधित करेंगे और उनके काम के बारे में जानेंगे।

स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषदऔर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से संयुक्त रूप से शुरू किया गया एक राष्ट्रव्यापी अभियान है। यह स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन 2020 चौथा संस्करण है। इससे पहले 2017, 2018 और 2019 में भी हैकाथॉन आयोजित हो चुके हैं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की संस्था अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE), पर्सिसटेंट सिस्टम्स और i4C मिलकर इस हैकाथॉन का आयोजन कर रहे हैं। इस बार इस प्रतियोगिता में 10 हजार प्रतिभागी शामिल हो रहे हैं। इस प्रतियोगिता के शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन होगा। पीएम वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सभी प्रतिभागियों के साथ अपने विचार बांटेंगे।

हैकाथॉन में जीतने वाले छात्रों को पुरस्कार दिया जाता है। हर समस्या को सुलझाने के लिए छात्र को 1 लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा, जबकि स्टूडेंट इनोवेशन के तहत प्रथम पुरस्कार के तौर पर 1 लाख रुपये, द्वितीय पुरस्कार के तहत 75 हजार रुपये और तृतीय पुरस्कार के तहत 50 हजार रुपये दिए जाएंगे।

जटिल यादव की जटिलता और शकुंतला देवी का दिमाग, आज से सीधे आपके मोबाइल में