भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को मौजूदा दौर में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है। दुनिया के नंबर एक वनडे बल्लेबाज बनने का रहस्य क्या है यह सभी जानना चाहते हैं। भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने कोहली के इस अहम रहस्य से पर्दा उठाते हुए बताया कि कैसे वो इतने महान बल्लेबाज बन गए।आज की तारीख में वर्ल्ड क्रिकेट में फिटनेस से लेकर रणनीति तक हर पहलू पर एक समान पकड़ रखने वाले क्रिकेटरों की बात की जाए तो भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली का नाम सबसे ऊपर रखा जाएगा। कोहली ऐसे क्रिकेटर हैं, जो अपनी मेहनत के दम पर शानदार प्रदर्शन दिखाकर टॉप पर पहुंचे हैं। ऐसे में किसी नए क्रिकेटर को अगर करियर में सफलता पाने के लिए कोई फॉर्मूला विराट कोहली सरीखा क्रिकेटर सुझाए तो वो उस खिलाड़ी के लिए सबसे अनमोल खजाना कहा जा सकता है। ऐसा ही खजाना भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या के भी हाथ लगा है, जिनके लिए विशेषज्ञ भी मानते हैं कि वे अपनी प्रतिभा के हिसाब से अभी तक खेल नहीं दिखा पाए हैं।

भारतीय कप्तान ने क्रिकेट के तीनों ही फॉर्मेट में अपनी बल्लेबाजी का डंका बजाया है। कोहली के नाम वनडे में 11867 रन टेस्ट क्रिकेट में 7240रन जबकि टी20 में 2794 रन हैं। टी20 में कोहली दुनिया में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। टीम इंडिया के कप्तान दुनिया के एक मात्र बल्लेबाज हैं जिनका औसत क्रिकेट के तीनों ही फॉर्मेट में 50 का है।

हार्दिक ने बताया कि विराट ने किस तरह उन्हें करियर में सफलता पाने का फॉर्मूला बताया था। उन्होंने कहा, 2 दिन पहले मैंने विराट कोहली से बात की थी, मैंने पूछा कि उनकी सफलता का क्या कारण है? इस पर विराट ने जवाब दिया कि तुम्हारा एटीट्यूड ठीक है, बाकी सब भी ठीक है। बस तु्म्हें अपने दिमाग में एक जगह पहुंचने की बात रखनी होगी और खेल में निरंतरता का स्तर बरकरार रखना होगा। सही राह पर नंबर-1 बनने के लिए जबरदस्त भूख होनी चाहिए। किसी को नीचे धकेलने पर नहीं बल्कि अपनी मेहनत और अपनी योग्यता के दम पर नंबर-1 बनना तुम्हारा लक्ष्य होना चाहिए।

हार्दिक ने ये भी बताया कि विराट की बात से उन्हें क्या सबक सीखने को मिला है। उन्होंने कहा, ‘आप में बेस्ट बनने का भूख होनी चाहिए। यदि आप गेंदबाज हैं तो उसमें सबसे बेस्ट होने चाहिएं। यदि आप ट्रेनिंग करते हैं तो आपके अंदर मेहनत करने का जज्बा होना चाहिए। जिंदगी में भी आपको खुद से प्रतिस्पर्धा करने की जरूरत होती है।

हार्दिक ने कहा, ‘अब मैं जानता हूं कि कैसे और क्यों विराट लगातार सफल हैं। विराट, धोनी और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ी नंबर-2 बनना पसंद नहीं करते। लेकिन दूसरी तरफ यदि ये लोग नंबर 2 पर रह जाएं तो वे बुरा भी नहीं मानते। उन्होंने कहा,’वो लोग नंबर-1 बनना चाहते हैं, लेकिन ये उनकी महानता है कि यदि वे नंबर-2 रह जाएं तो भी उन्हें कोई समस्या नहीं होती। वे नंबर-1 बनने के लिए अपने कठिन परिश्रम की प्रक्रिया को दोबारा शुरू कर देते हैं।