एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने सीबीएसई बोर्ड की पेंडिंग 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के आयोजन के विषय में कहा है कि ये परीक्षाएं स्टूडेंट अपने ही स्कूल से देंगे, इनके लिये नये परीक्षा केंद्र नहीं बनाये जायेंगे. दरअसल कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है. कोविड – 19 और लॉकडाउन को देखते हुये स्टूडेंट्स और उनके अभिभावक लगातार मिनिस्ट्री से एग्जाम सेंटर्स के बारे में जानकारी मांग रहे थे, साथ ही उनका यह भी कहना था कि स्टूडेंट की सेफ्टी और हेल्थ के लिये एग्जाम सेंटर्स के बारे में सूचना मिलना बहुत जरूरी है. चूंकि इस समय बहुत ट्रैवल करना और एक अंजान जगह की सेफ्टी को लेकर आश्वस्त होना आसान नहीं है इसलिये एचआरडी मिनिस्टर ने एग्जाम सेंटर एलॉटमेंट जैसे मुद्दे को ही खत्म कर दिया है. जिस स्टूडेंट का रजिस्ट्रेशन जिस स्कूल से है यानी की जहां से उसने पढ़ाई की है, उसे वहीं से एग्जाम देना होगा.

वहीं, एचआरडी मंत्री ने 12वीं और 10वीं की बची बोर्ड परीक्षाओं के जुलाई 2020 में आयोजन के बाद सीबीएसई बोर्ड रिजल्ट 2020 से सम्बन्धित पूछे गये विभिन्न प्रश्नों के प्रतिउत्तर में कहा कि परिणामों की घोषणा जुलाई माह में ही अंतिम सप्ताह के दौरान की जा सकती है। सीबीएसई 10वीं रिजल्ट 2020 की घोषणा परीक्षाओं के सम्पन्न किये जाने के बाद जल्द से जल्द की जाएगी, जबकि सीबीएसई 12वीं रिजल्ट 2020 की घोषणा, विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में दाखिले की प्रक्रिया को देखते हुए जुलाई लास्ट वीक में की जा सकती है।

हालांकि, मानव संसाधन विकास मंत्री ने विभिन्न स्कूलों के फिर से खुलने के बारे में कोई भी स्पष्ट जानकारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि स्कूलों के खुलने के बारे में सीबीएसई द्वारा अभी तक कोई निर्णय फिलहाल नहीं लिया गया है।

वहीं दूसरी तरफ उन्होंने कहा कि एनसीईआरटी को स्कूलों के फिर से खुलने को लेकर दिशा-निर्देश की बनाने को कहा गया है, जैसा कि यूजीसी को उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए रि-ओपेनिंग फ्रेमवर्क बनाने को कहा गया है।