कोरोना वायरस के संकट से लोगों को बचाने एवं कम दामों पर मास्क उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत सीतामढ़ी में बड़े पैमाने पर मास्क बनाये जा रहे है। IPRD के ट्वीट के अनुसार यहां रोजाना 30000 मास्क बनाये जा रहे है। लॉकडाउन के कारण सभी व्यक्ति अपने घरो से ही मास्क बना रहे है। इस संकट के घड़ी में मास्क हर किसी की जरुरत है। इस जरुरत को ध्यान में रखते हुए मास्क की कीमत मात्र 14 से 20 रूपए के बीच रखी  गए है, जिससे हर कोई मास्क को खरीद सके और इस महामारी में अपने आप को सुरक्षित रख सके। इस संकट की परिस्थिति में सीतामढ़ी के लोगों ने ये बताया की कैसे हम सुरक्षित रहने के साथ साथ आत्मनिर्भर भी हो सकते है। इस पहल से कई सारे लोगों को जीविका के नए रास्ते मिल रहे है।

बिहार में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे है।  इस बीमारी के कारण मास्क हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन चूका है।  कई सारे ऐसे प्रदेश है जहा मास्क ना पहनने पे आपको फाइन भी हो सकती है। अभी तक इस महामारी से बचने का उपाय सिर्फ और सिर्फ सावधानी ही है।

IPRD बिहार ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) के तहत मास्क बनाने वाले निर्माताओं के मोबाइल नंबर भी दिए है।  जिससे मास्क खरीदने के लिए इनसे संपर्क कर सकते है।

वहीं बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. राज्य में सोमवार को 43 और कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं. जिसके बाद बिहार में कुल मरीजों की संख्या अब 1392 हो गई है. पिछले आठ दिनों में अधिकतर संक्रमित बाहर से लौटने वाले प्रवासी मजदूर हैं. वहीं राज्य में कोरोना महामारी से अब तक आठ लोगों की मौत हो चुकी है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार बिहार में कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 453 हो गयी है. राज्य के सभी 38 जिलों में कोरोना ने दस्तक दे दी है.