भारत ने डोनाल्ट ट्रंप का स्वागत उनके दो द्विवसीय दौरे पर पूरे गर्मजोशी के साथ किया। लगभग 36 घंटे के दौरे में ट्रंप ने सबसे पहले अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में लोगों को संबोधित किया। ट्रंप ने नमस्ते के साथ अपना भाषण शुरू किया और कहा कि भारत की विविधता अभूतपूर्व है। ट्रंप के साथ इस दौरे पर उनकी पत्नी मेलानिया और बेटी इंवाका भी आयी थीं। डोनाल्ड ट्रंप और फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप ने आगरा में प्रतिष्ठित ताजमहल का दौरा किया, जो भारत की 36 घंटे से कम की यात्रा का दूसरा पड़ाव था। इस दौरान मेलानिया ट्रंप ने मड-पैक ट्रीटमेंट के बारे में जाना जिससे वह काफी अंचभित हुई। इसके बाद मेलानिया ट्रंप ने दक्षिण दिल्ली के एक सरकारी स्कूल में ‘हैप्पीनेस क्लास’ में भाग लिया और कहा कि वह पाठ्यक्रम से प्रेरित हैं। यह वहां के शिक्षकों के लिए काफी सकारात्मक पल रहा।

अहम समझौते 

भारत और अमेरिका के बीच तीन अरब डॉलर का एक रक्षा समझौता हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुई बातचीत के बाद इसका ऐलान हुआ। इन सौदे में अमेरिका से 24 एमएच 60 रोमियो हेलिकॉप्टर की 2.6 अरब डॉलर की खरीद शामिल है। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि इस समझौते से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे। उनका यह भी कहना था कि अमेरिका और भारत ने एक विस्तृत व्यापार समझौते की दिशा में काफी प्रगति कर ली है। एक अन्य डील छह AH 64E अपाचे हेलिकॉप्टर को लेकर है, जिसकी कीमत 80 करोड़ डॉलर होगी।

उन्नत सैन्य प्रौद्योगिकी  

संयुक्त बयान में भारतीय सेनाओं को उन्नत सैन्य हेलीकॉप्टरों की बिक्री पर भी जोर दिया गया। हथियार प्रणालियों के संयुक्त उत्पादन के लिए भारत के साथ राष्ट्रपति ट्रम्प ने उन्नत सैन्य प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण का समर्थन करने का संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि जब प्रौद्योगिकी हस्तांतरण की बात आएगी तो भारत पर सबसे अधिक विचार किया जाएगा।

व्यापार वार्ता 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा “जहां तक द्विपक्षीय व्यापार का संबंध है, हमारे वाणिज्य मंत्रियों के बीच सकारात्मक वार्ता हुई है। “राष्ट्रपति ट्रंप और मैं आज सहमत हुए हैं कि हमारे वाणिज्य मंत्रियों के बीच जो समझ बनी है, इसका दोनों देशों को काफी लाभ मिलेगा। साथ ही उन्होंने बताया कि हम एक बड़े व्यापार सौदे के लिए बातचीत शुरू करने के लिए भी सहमत हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपनी टिप्पणी में क्वाड पहल का भी उल्लेख किया। यह कहते हुए कि यह अमेरिका, भारत, ऑस्ट्रेलिया और जापान के बीच सहयोग में वृद्धि के साथ पुनर्जीवित किया जा रहा है।

अहम बातें 

ट्रंप ने चीन का नाम लिए बिना पारदर्शिता की आवश्यकता पर प्रकाश डालते हुए 5G दूरसंचार नेटवर्क के मुद्दे का विशेष उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान हमने एक सुरक्षित 5G वायरलेस नेटवर्क के महत्व और इस उभरती हुई तकनीक के लिए स्वतंत्रता, प्रगति, समृद्धि के लिए एक उपकरण होने की आवश्यकता पर चर्चा की।

व्यापार में

राष्ट्रपति ट्रम्प ने घोषणा की कि एक्सॉन-मोबिल ने भारत के प्राकृतिक गैस वितरण नेटवर्क को बेहतर बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे, ताकि अमेरिका भारत को और अधिक एलएनजी (तरलीकृत प्राकृतिक गैस) निर्यात कर सके “और कहा कि अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय विकास निगम (DFC) भारत में एक स्थायी कार्यालय स्थापित करेगा। विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि निगम “$ 600 मिलियन रियायती वित्तपोषण के संदर्भ में” उपलब्ध करके शुरू करेगा।

ऊर्जा सहयोग

दोनों नेताओं ने “न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड और वेस्टिंगहाउस इलेक्ट्रिक कंपनी को प्रोत्साहित किया कि वे भारत में जल्द से जल्द छह परमाणु रिएक्टरों के निर्माण के लिए तकनीकी-व्यावसायिक प्रस्ताव को अंतिम रूप दें”। पीएम मोदी ने कहा कि ऊर्जा सहयोग तेजी से बढ़ रहा है और आपसी निवेश बढ़ा है। “हमारी रणनीतिक ऊर्जा साझेदारी कुछ समय पहले ही मजबूत हो रही है। और इस क्षेत्र में आपसी निवेश बढ़ गया है, यह अक्षय ऊर्जा या परमाणु ऊर्जा हो, हमारे सहयोग को नई ऊर्जा मिल रही है। इसके अलावा वैश्विक स्तर पर, अमेरिका ने सुधार के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की भारत की स्थायी सदस्यता और बिना देरी के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में प्रवेश के लिए अपने समर्थन की पुष्टि की।