इतिहास की झिझक को खत्म करते हुए भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने एक मजबूत और रणनीतिक द्विपक्षीय संबंध बनाया है। भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने अमेरिकी साम्राज्यवाद की तुलना ब्रिटिशों से की थी। उन्होंने गुटनिरपेक्ष सिद्धांत का प्रचार और प्रसार किया, जिससे भारत ने पूंजीवादी अमेरिका या कम्युनिस्ट सोवियत संघ में शामिल होने से इंकार कर दिया। इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारत और अमेरिका के बीच बीते काफी समय से संबंध काफी उतार-चढ़ाव भरे रहे हैं। अगर हाल की बात करें तो अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सत्ता में आने के बाद भारत से अपना व्यापार घाटा कम करने के मकसद से उसके आयात पर भारी शुल्क लगा दिया। उन्होंने न केवल भारत से आने वाले स्टील और एल्युमिनियम पर टैक्स लगाया बल्कि उसे व्यापार व्यवस्था से भी बाहर कर दिया है।

ट्रंप भारत का दौरा करने वाले 7वें राष्ट्रपति

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिवसीय भारत दौरे पर आए हैं। ट्रंप भारत का दौरा करने वाले 7वें राष्ट्रपति हैं। जब भी कोई अमेरिकी राष्ट्रपति भारत दौरे पर आए हैं, भारत और अमेरिका के व्यापारिक रिश्ते में मजबूती आई है। ट्रंप के भारत दौरे पर महत्वपूर्ण व्यापारिक समझौते होने के कयास लगाए जा रहे हैं। माना जा रहा है कि भारत और अमेरिका के बीच कई सैन्य समझौते हो सकते हैं। इस दौरे में पांच सहमति-पत्रों पर चर्चा हो सकती है, जिसमें एक बौद्धिक संपदा से जुड़ा है। इसके अलावा मोदी-ट्रंप वार्ता में एच1बी वीजा से जुड़े विषय पर भी बातचीत हो सकती है। अब हम जानते हैं कि ट्रंप के भारत दौरे के पूर्व कौन-कौन से अमेरिकी राष्ट्रपति भारत के दौरे पर आ चुके हैं।

अमेरिका के ये राष्ट्रपति भी आ चुके हैं भारत

  •  भारत दौरे पर आने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति में सबसे पहला नाम अमेरिका के राष्ट्रपति डी. आईजेनहावर का आता है। 10 दिसंबर, 1959 को तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारत की धरती पर उनका अभिनंदन किया था।

  • अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन भारत दौरे पर आने वाले दूसरे अमेरिकी राष्ट्रपति थे जो सन 1969 में भारत भूमि पर पधारे। रिचर्ड निक्सन अमेरिका के 37वें राष्ट्रपति थे और अपने शपथ ग्रहण के 6 महीने के बाद ही इन्होंने भारत का दौरा किया था।
    रिचर्ड निक्सन के भारत दौरे के दौरान भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थी। निक्सन मात्र 23 घंटे भारत में रुके। निक्सन लाहौर के लिए उसी दिन प्रस्थान कर गए थे।
     
  • जिम्मी कार्टर बतौर अमेरिकी राष्ट्रपति 1 जनवरी, 1978 को भारत दौरे पर आए। लगभग 9 साल के बाद कोई अमेरिकी राष्ट्रपति भारत आया था। तब के तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया था। जिम्मी कार्टर ने भारत दौरे के दौरान हरियाणा के दौलतपुर गांव का अपनी पत्नी संग दौरा किया था और खास बात यह रही कि कार्टर और उनकी पत्नी रोजालिन ने दौलतपुर गांव को टेलीविजन का उपहार दिया था। जिससे खुश होकर दौलतपुर का नाम बदलकर “कार्टरपुर” कर दिया गया था।
     
  •  सन् 2000 में अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भारत पांच दिवसीय दौरे पर आए। उस समय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने उनका स्वागत किया था। इस दौरे की खास बात यह रही कि बिल क्लिंटन ने भारत के अलग-अलग शहरों का दौरा किया। बिल क्लिंटन ने मुंबई, हैदराबाद, आगरा व जयपुर का दौरा किया था। बिल क्लिंटन अपने भारत दौरे पर बेटी चेल्सी क्लिंटन के साथ आए थे।

  •  जॉर्ज डब्ल्यू बुश भारत आने वाले पांचवें अमेरिकी राष्ट्रपति बने। बुश सन् 2006 में बतौर अमेरिकी राष्ट्रपति भारत दौरे पर आए। इस समय भारत के प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह थे। बुश की भारत यात्रा पर भारत ने नागरिक और सैन्य परमाणु सुविधाओं को अलग-अलग रखने पर अपनी सहमति दर्ज कराई थी।
     
  •  इसके बाद बराक ओबामा भारत दौरे पर आए छठे राष्ट्रपति थे। बतौर अमेरिकी राष्ट्रपति अपने पहले कार्यकाल में ही भारत आए दूसरे राष्ट्रपति बराक ओबामा थे। इससे पहले अपने पहले कार्यकाल में भारत दौरे पर अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन थे। बराक ओबामा अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति भी हैं। बराक ओबामा ने भारत में गणतंत्र दिवस के अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में भारत का दौरा किया। गणतंत्र दिवस पर भारत पहुंचने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा हैं। सबसे खास बात यह है कि भारत और अमेरिका के रिश्ते सबसे मजबूत बराक ओबामा के राष्ट्रपति रहने के दौरान रहे। ओबामा भारत दौरे पर बतौर अमेरिकी राष्ट्रपति दो बार आए।