केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से सत्र 2019—20 के 9वीं व 11वीं के छात्र—छात्राओं का रजिस्ट्रेशन कार्ड 5 फरवरी से मिलना शुरू हो गया। इसका मकसद अगले साल होनेवाली परीक्षा की तैयारी समेत छात्रों द्वारा पढ़े जा रहे विषय और कॉम्बिनेशन के बारे में जानकारी हासिल करनी थी। इसके अलावा उनके पर्सनल डाटा नाम, जन्मतिथि, मां—पिता के नाम की सही—सही जानकारी उपलब्ध कराना भी था। अगर इसमें कोई गलती हो तो छात्र स्कूल के माध्यम से इसे सही करा सकते हैं, जिसके लिए शेड्यूल तय कर दिया गया है। छात्रों के रजिस्ट्रेशन कार्ड को डिजीलॉकर में भी उपलब्ध कराया जाएगा। शेड्यूल के अनुसार 5 फरवरी से स्कूल रजिस्ट्रेशन कार्ड डाउनलोड करेंगे और 17 फरवरी तक उसका प्रिंटआउट छात्रों को देंगे। सभी डिटेल्स के वेरिफिकेशन के बाद अभिभावक और छात्र उसपर हस्ताक्षर करेंगे। इसे 24 फरवरी तक वापस स्कूल में जमा किया जाएगा, जिस पर प्रिंसिपल का हस्ताक्षर होगा। अगर कुछ करेक्शंस करने होंगे तो छात्र स्कूल को लिखित में डाटा सही करने के लिए कहेंगे। प्रिंसिपल के सिग्नेचर के बाद रजिस्ट्रेशन कार्ड फिर छात्र को दे दिया जाएगा। 6 मार्च तक यह प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। गलतियों का सुधार 23 मार्च तक स्कूलों को करना होगा। स्कूल इसे रीजनल आफिस भेजेंगे फिर वहां से गलतियों में सुधार की जाएगी। अपडेटेड रजिस्ट्रेशन कार्ड अप्रैल 2020 तक छात्रों को दिया जाएगा। 15 मई तक बोर्ड सभी छात्रों का डिजीलॉकर ओपन करेगा। स्कूल को लॉगइन आईडी दी जाएगी। सभी छात्रों का रजिस्ट्रेशन कार्ड डिजीलॉकर में उपलब्ध रहेगा। एक बार रजिस्ट्रेशन कार्ड जारी हो जाने के बाद सीबीएसई डाटा में सुधार नहीं करेगा। इसके अलावा अभिभावकों व छात्रों को यह अंडरटेकिंग भी देना होगा कि सभी डाटा सही है, कोई करेक्शन जरूरी नहीं है।

सीबीएसई ने लॉन्च किया सेंटर लोकेटर एप 

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए एग्जाम सेंटर लोकेटर एप लॉन्च किया है। बोर्ड ने सभी स्कूलों को पत्र लिखकर इस एप के बारे में छात्रों को बताने के लिए कहा है। एग्जाम सेंटर लोकेटर एप एंड्रायड बेस्ड मोबाइल एप्लीकेशन है जिसका उपयोग छात्र परीक्षा केंद्र खोजने में कर सकते हैं। गूगल मैप के जरिए परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र की दूरी व लोकेशन के बारे में जानकारी मिल पाएगी। प्ले स्टोर में ईसीएल एप के नाम से यह एप्लीकेशन उपलब्ध है। इसके अलावा प्रिंसिपल्स जो सेंटर सुपरिटेंडेंट हैं उन्हें आनलाइन एग्जाम सेंटर मैनेजमेंट सिस्टम के प्रोपर उपयोग के लिए कहा गया है। फरवरी से अप्रैल तक यह सिस्टम चालू रहेगा। इस सिस्टम के माध्यम से इनविजिलेटर, अनुपस्थित छात्रों, पीडब्लूडी, स्क्राइब, प्रश्नपत्र पर फीडबैक आदि की डिटेल्स भेजी जाएगी।

प्रवेश पत्र में श्रेणी के अनुसार कोड 

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं 2020 के प्रवेश पत्रों में कई नई चीजों को जोड़ा है। पहली बार शारीरिक रूप से कमजोर परीक्षार्थियों को प्रवेश पत्र में शामिल किया गया है। दिव्यांक छात्रों के लिए अलग से कॉलम बनाया गया है। इसके लिए बोर्ड ने अलग से कोड दिया है। इससे पहले तक प्रवेश पत्र में केवल छात्र का नाम, रौल नंबर, सेंटर कोड और परीक्षा की तिथि होती थी। इस बार पांच तरह के कोड है।