भारतीय एकता व अखंडता के लिए लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकता। 31 अक्टूबर 2018 को स्वतंत्र भारत के प्रथम गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा को ‘स्टेचू ऑफ यूनिटी’ के रूप में स्थापित करने के बाद भारत सरकार द्वारा घुमन्त प्रदर्शनी भी शुरू की गई। जिससे लोग उनके कार्य व योगदान से अवगत हो सके।  

क्या है घुमन्त प्रदर्शनी 

सरदार वल्लभ भाई पटेल द्वारा भारत की एकता के लिए किये गए कार्य को डिजिटल रूप में ढाल कर अलग-अलग शहरो में इसकी प्रदर्शनी की जा रही है| जूनागढ़, नागपुर, भोपाल होते हुए यह प्रदर्शनी अब पटना के विज्ञान केन्द्र पहुची है। 26 अक्टूबर को उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी द्वारा पटना के विज्ञान केंद्र में इस प्रदर्शनी की उद्घाटन किया गया। 

प्रदर्शनी में क्या है खास

पटना के विज्ञान केंद्र में लगे सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रदर्शनी को पूरी तरह से युवाओं को ध्यान में रखते हुए डिजिटल रूप से तैयार किया गया है| संस्कृति मंत्रालय द्वारा इसे पूरी तरीके से कहानी के रूप में तैयार किया गया है| अलग—अलग विशेषज्ञों की टीम ने मिलकर इसकी संरचना, पटकथा आदि को तैयार किया है| नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ अहमदाबाद द्वारा इस प्रदर्शनी का डिजाइन बनाया गया है। इस प्रदर्शनी में आपको रियासत अंगीकरण की स्कैन कॉपी के साथ रियासती सिक्के भी देखने को मिलेंगे| साथ ही 550 स्क्वायर फीट में तैयार प्रदर्शनी में 2 सेल्फी प्वाइंट भी है, जहां आप सरदार पटेल के साथ सेल्फी भी ले सकते हैं। 

प्रदर्शनी में खुद बात करेंगे सरदार पटेल

प्रदर्शनी को रोचक बनाने के लिए 20 सवाल तैयार किये गए हैं| जिसका जवाब स्वयं सरदार वल्लभ भाई पटेल की आवाज में रिकॉर्डेड है। उनकी आवाज को उनके अलग—अलग भाषण से उठाया गया है|